Free Trading + Demat Account

चित्तौड़गढ़ & जैन धर्म - 2. जैन श्रद्धालु

Published on Thursday, January 18, 2018 by Dr A L Jain | Modified on Monday, February 19, 2018

चित्तौड़गढ़ के अधिकांश शासक शैव मतावलम्बी रहे है, जिनके शरीर तो क्षत्रिय थे, लेकिन उनकी शक्ति ऐसे जैन श्रेष्ठी रहे जिन्होंने राजसत्ता को आर्थिक पोषण ही नहीं दिया, अपितु अपनी वीरता एवं बौद्धिक क्षमताओं से राज्य को सुरखित भी रखा। जैनाचार्यों को स्वयं सम्मान देकर सम्राटों के सम्मुख उन्हें सम्माननीय बनाया। राजाओं के द्वारा प्रसन्न होने पर अपनी श्री वृद्धि या स्वार्थ के निमित्त कभी मुंह नहीं खोला, अपितु जैन धर्म के उत्कर्ष, आभारी की घोषणा एवं तीर्थ रक्षा के लिए राजाज्ञाएँ चाही। मेवाड़ के अधिकांश कालखण्ड में यहाँ के शासक, जैन धर्म के संरक्षक, पोषक एवं श्रद्धालु रहे है। उन्होंने जैन धर्म को आश्रय व सम्बल दिया एवं कई जैन-मंदिर बनवाये या जीर्णोद्धार करवाये। इसी के फलस्वरूप चित्तौड़गढ़ में जैन संस्कृति का शताब्दियों तक विशाल एवं गौरवशाली प्रभुतव रहा और इसे जैन धर्म की संस्कार-भूमि कहा जाने लगा।

यहाँ के राज परिवारों ने कई जैन श्रेष्ठियों को उनकी कार्य कुशलता, ईमानदारी एवं नीति निर्माताओं के रूप में समय≤ पर राजकाज में महत्वपूर्ण स्थान दिये। उदाहरण स्वरूप महाराणा हमीर के समय जालसी मेहता, महाराणा कुंभा के समय वेला भंडारी, गुणराज, महाराणा रतनसिंह के समय भारमलजी कावड़िया (भामाशाह के पिता), ताराचन्द कावड़िया, महाराणा प्रताप के समय दानवीर भामाशाह एवं राणा अमरसिंह के समय जीवाशाह (भामाशाह के पुत्र), रंगोजी बोलिया, सिंघवी दयालदास, मेहता अगरचंद, मेहता मालदास, नवलखा रामदेव, नवलखा सहणपाल, बोलिया निहालचंद, अक्षयराज, दयालदास, कर्मचन्द्र बच्छावत आदि कई जैन श्रेष्ठी महत्वपूर्ण पदों पर रहे।

इन जैन श्रेष्ठियों के प्रति शासकों के अगाध विश्वास का अनुमान इसी बात से लगाया जा सकता है कि अधिकांश को पीढ़ी दर पीढ़ी उन्ही पदों पर खा गया एवं खजानों की चाबियाँ उन्ही के पास रहने दी गई। सामरिक महत्व के किलों व गढ़ों को उनके नेतृत्व में सौपा व उन्हें सेना नायकों के पद पर नियुक्त कर युद्ध में सैन्य संचालन उन्ही के जिम्मे किया। संधि वार्ताओं तथा राजकाज के अन्य कार्य भी इन लोगों ने बड़ी कुशलता एवं निष्ठा से सम्पन्न कर ख्याति अर्जित की।

जैन मंदिर

चित्तौड़ दुर्ग पर सैकड़ों वर्षों से शासकों एवं श्रावकों द्वारा आचार्यों एवं गुरू भगवन्तों की प्रेरणा से भव्य एवं कलात्मक जैन मन्दिरों का निर्माण/जीर्णोद्धार करवाया जाता रहा है। किसी समय दुर्ग पर 300 मन्दिर होने का उललेख मिलता है। पादरी एडवर्ड ने 1615 के सफरनामे में चित्तौड़गढ़ में 200 मंदिर एवं एक लाख के लभगभग घरों के खण्डहरों की पुष्टि की है (वीर विनोद)। हमारे मन्दिर, विदेशी आक्रमणकारियों-अलाउद्दीन खिलजी, अकबर, शाहजहाँ एवं औरंगजेब आदि की बर्बरता के शिकार होते रहे और हमारी विरासत के कई नायाब नमूने नेस्तनाबूत हो गये। वि. सं. 1556 की हेमचरित तीर्थमाला एवं वि. सं. 1573 की हर्षप्रमोद के शिष्य गयंदि रचित तीर्थमाला में यहाँ विभिन्न गच्छों के 32 मन्दिरों का उल्लेख है। तीसरी जैन परिपाटी बड़ौदा की ओरियन्टल रिसर्च इन्स्टीट्यूट में उपलब्ध 7 पत्रों के अनुसार अहमदाबाद के यात्रियों का संघ चित्तौड़़ गया था, जिसमें प्रसंगवश 16 मन्दिरों के क्रम से नाम है। ये मन्दिर अधिकांशतः कीर्ति स्तम्भ, गौमुख एवं श्रृंगार चवरी के मध्य भाग में स्थित रहे, होंगे, ऐसी संभावना है।

अतीत का वैभव

कुछ मन्दिर जिनकी प्रतिष्ठा या जीर्णोद्धार के लेख मिलते है लेकिन जिनके अस्तितव का आज पता नहीं लगता या जो ध्वस्त या जीर्ण अवस्था में है, निम्नानुसार है।

  1. श्रृंगार चंवरी के नाम से प्रसिद्ध यह अति सुन्दर शिल्प कला का जैन मंदिर आज जीर्णशीर्ण अवस्था में है। इसे अष्टापद शांतिनाथ जिन चैत्य के नाम से जाना जाता था। बनवीर द्वारा इसे एक दीवार से बन्द करा दिया गया था, जिसे अब खोल दिया गया है। पहले इसमें चार द्वार थे, अब दो द्वार है। वि. सं. 1334 वैशाख सुदी 3 बुधवार तक इसमंे 24 मूर्तियां प्रतिष्ठित थी। इसे रतनसिंह श्रेष्ठी द्वारा निर्मित करवाया गया था एवं कुमारल श्राविका द्वारा देव कुलिकाओं का निर्माण अपने माता-पिता के श्रेयार्थ किया गया था। इसका जीर्णोद्वार वि. सं. 1505 में भंडारी वेला द्वारा आचार्य जिनसेनसूरि की निश्रा में किया गया था। एक और शिलालेख बनवीर की दीवार में लगा है जिसमें नाथुभ्यां पत्नी सिंगारदे, नागरिदे पुत्र परिवार सहित द्वारा देव कुलिकाओं की प्रतिष्ठा खरतरगच्छ आचार्य जिनचंद्रसूरिजी के पट्टधर जिनसागर सूरिजी द्वारा करवाने का उल्लेख है। श्रृंगार चंवरी से जुड़ा हुआ पूर्वाभिमुख एक और मंदिर है जिसके बारे में अधिक जानकारी उपलब्ध नहीं है, लेकिन मंदिर का शिल्प बहुत आकर्षक है।
  2. वि. सं. 1110 (सन् 1053) में दुर्ग पर भगवान महावीर स्वामी जी के मन्दिर बनवाये जाने का उल्लेख मिलता है।
  3. वि. सं. 1335 में महाराणा तेजसिंह की पटरानी और समरसिंह की मातुश्री जयतल्लादेवी द्वारा भगवान पाश्र्वनाथजी का मन्दिर बनवाये जाने का उल्लेख है।
  4. वि. सं. 1335 में युवराज समरसिंह द्वारा भगवान आदिनाथ मन्दिर में ध्वजा चढ़ाये जाने का उल्लेख मिलता है। यह मन्दिर आज का मुख्य सातबीस देवरी जैन मन्दिर भी हो सकता है।
  5. वि. सं. 1353 में महाराणा समरसिंह के राज्य काल में 11 जिन मन्दिरों में जिन प्रतिमाओं की प्रतिष्ठा का उल्लेख है।
  6. श्रेष्ठि गुणराज के पुत्र वाल ने 15 वीं शताब्दी में कीर्ति स्तम्भ के चारों ओर विशाल जिन मन्दिर बनवाकर 3 मूर्तियों की प्रतिष्ठा आचार्य सोमसुन्दर सूरि से करवाई थी एवं शत्रुंजय तीर्थयात्रा हेतु संघ भी निकाला था।
  7. माण्डवगढ़ के मंत्री पेथड़शाह के द्वाा भी जैन मन्दिर बनवाने का उल्लेख है।
  8. श्रेष्ठी वीसल द्वारा 15 वी शताब्दी में श्रेयांशनाथ भगवान का मन्दिर बनवाने का उल्लेख है, जिसकी प्रतिष्ठा भी खरतरगच्छ आचार्य सोमसुंदरसूरि ने की थी। इसी परिवार ने कल्पदु्रम पाश्र्वनाथ की प्रतिमा स्थापित की थी।
  9. महाराणा मोकल के समय मंत्री शरणपाल द्वारा अनेकों जैन मंदिर बनवाए जाने का उल्लेख मिलता है।
  10. सात बीस देवरी मंदिर के सामने खेत में खरतरगच्छ के खण्डहर मंदिर में 1556 वि. सं. का शिलालेख का एक टुकड़ा लगा होने का उल्लेख मिलता है जो अब नहीं है।
  11. समिद्धेश्वर महादेव मंदिर जिसे महाराणा मोकल ने 1428 ई. में बनवाया था इसी के करीब गुसाइयों का मठ है जो जैन मंदिर की कुर्सी पर बनाया गया है। 
  12. जैन शिल्प का एक भव्य मंदिर बिड़ला धर्मशाला के पीछे जीर्णशीर्ण अवस्था में है जिस पर नाथ सम्प्रदाय का कब्जा है। इसमें बाबा गरीबदास व उनके शिष्य ने जीवित समाधि ली थी। यह शिव मंदिर बना दिया गया है।
  13. जिनभद्रसूरिजी ने चित्तौड़गढ़ में कई मंदिरों का निर्माण करवाया था।
  14. सात बीस देवरी जैन मंदिर एवं कीर्ति स्तम्भ के बीच के पूरे रास्ते में ध्वस्त जैन मंदिरांे की एक श्रृंखला है।

The true and sublime message of Mahavir inspires in us the lofty emotion of universal amity as if throught the cry of a 'conch shell'.

By Sir Akbar Hydri

The Jain literature is greatly useful to the world in the sphere of Historical research and studies. It provides abundant material to Historians, Archeologists and Scholars to carry out their research. The Jain Sadhus have set a magnificent example to the world of self discipline by discimplining their senses absolutely and by observing vows and principles with the greatest degree of austerity. Even the life of a householder who has dedicated himself to the principles of Jainism is so Faultless and perfect that it should be honoured throughout India.

By Dr. Satish Chandra Vidya Bhushan

<< 1. जैन धर्म का गौरव स्थल3. पूजित जिन मंदिर >>


Chapters (चित्तौड़गढ़ & जैन धर्म)

  1. जैन धर्म का गौरव स्थल
  2. जैन श्रद्धालु
  3. पूजित जिन मंदिर
  4. महान जैन आचार्य
  5. दानवीर जैन श्रेष्ठी
  6. चित्तौड़ में रचित जैन साहित्य
  7. शिलालेख एवं प्रशस्तियाँ
  8. रोचक एवं ऐतिहासिक तथ्य
  9. परिशिष्ट
  10. चित्तौड़गढ़ दुर्ग का गाइड मेप
  11. भक्तिमती मीराबाई
  12. जैन धर्मशाला
  13. श्री केसरियाजी जैन गुरूकुल

Rate this article
1
2.0
Rating:Rated 2.0 stars

Vote Here ...

Comments

No comments found. Be the first to post a comment.




Message Board

Stock Message Board



Search Chittorgarh.com:

Chittorgarh.com Mobile Apps:

Download Android App Downlaod iOS App